एंड्राइड क्या है और एंड्राइड को किसने बनाया हैं ?

आपने अपनी जिंदगी में कभी न कभी एंड्राइड के बारे में जरूर सुना होगा लेकिन क्या आप जानते है की एंड्राइड क्या है और एंड्राइड को किसने बनाया है। हो सकता है की आप भी कभी न कभी एंड्राइड का इस्तेमाल किया हो क्योकि आज के समय में एंड्राइड काफी पॉपुलर ऑपरेटिंग सिस्टम है तो अगर आप एंड्राइड ऑपरेटिंग सिस्टम के बारे में बात करने वाले है तो आप इस पोस्ट को लगातार पढ़ते रहिये।

आज के समय में बहुत सारे ऐसे ऑपरेटिंग सिस्टम है लेकिन सबसे पॉपुलर ऑपरेटिंग सिस्टम का नाम है एंड्राइड। आज के समय में  यह ऑपरेटिंग सिस्टम बहुत ही ज्यादा पॉपुलर है लगभग सभी मोबाइल फ़ोन में इस ऑपरेटिंग सिस्टम का इस्तेमाल किया जाता है। ऑपरेटिंग सिस्टम की फिल्ड में इसका नाम आना यह बताता है की यह काफी अच्छा ऑपरेटिंग सिस्टम है तो इसीलिए आज के इस पोस्ट में हम एंड्राइड के बारे में जानेंगे और यह पता करने के कोसिस करेंगे की एंड्राइड क्या है और इसे किसने बनाया है।

एंड्राइड क्या है ?

एंड्राइड एक लिनक्स बेस्ड ऑपरेटिंग सिस्टम है जिसे एंड्राइड कंपनी ने बनाया है लेकिन बाद में इसे गूगल के द्वारा खरीद लिया गया था। ऑपरेटिंग सिस्टम जिसे Os भी कहा जाता है इसका सिंपल सा काम होता है की यह यूजर द्वारा दिए गए निर्देशों को हार्डवेयर तक पहुँचता है। इसके साथ ही यह वेबसाइट के इंटरनल सिस्टम जैसे RAM और ROM इत्यादि को भी मैनेज करता है।एंड्राइड क्या है android kya hai android kese kaam karata hai , android ke baare me , android in hindi , android meaning in hindi , android ki jankari hindi me , kya android ios se achaa hai , android kese hai , android ko kisne banaya  आज के समय में एंड्राइड के 2.3 बिलियन यूजर है यह सिस्टम 100 से भी अधिक भाषाओ में अवेलेबल है जिससे आप इस ऑपरेटिंग सिस्टम को अपने भाषा में इस्तेमाल कर सकते है। इसके साथ ही एंड्राइड का इस्तेमाल अब सिर्फ मोबाइल में ही नहीं बल्कि मोबाइल के साथ साथ स्मार्ट टीवी , स्मार्ट वाच , डिजिटल कैमरा और वाहनों में भी होने लगा है। 

मुझे उम्मीद है अब आप एंड्राइड क्या है के बारे में समझ चुके लेकिन अब आपका यह सवाल होगा की एंड्राइड को किसने बनाया है यानि की एंड्राइड का इतिहास क्या है तो चलिए अब हम एंड्राइड के बारे में जानते है। 

एंड्राइड का इतिहास क्या हैं ? 

एंड्राइड को अमेरिका के Andy Rubin के द्वारा बनाया गया थे। इसको बनाने में Andy को 4 और लोगो ने सहयोग किया था यानि की Android  को Rich Miner , Andy Rubin Chis White और Nick Sears द्वारा बनाया गया था इसे 2003 में बनाया गया था लेकिन सन 2005 में इसे गूगल ने खरीद लिए। 

गूगल ने एंड्राइड को क्यों ख़रीदा ?

गूगल इस बात को अच्छी तरह से समझता था की आने वाले समय में दुनिआ डिजिटल होगी इसीलिए गूगल ने एंड्राइड को 50 मिलियन डॉलर में खरीद लिए।  गूगल को एंड्राइड ने इस लिए भी ख़रीदा की गूगल एंड्राइड को एक फ्री ऑपरेटिंग सिस्टम बनाना चाहता था ताकि सब इसे इस्तेमाल कर सके। इसके साथ ही जब गूगल ने एंड्राइड को ख़रीदा तब उसे एंड्राइड के बहुत सारे अच्छे कर्मचारी भी मिले जो आगे चलकर गूगल के लिए फायदेमंद साबित हुआ। और उसी वजह से आज गूगल ऑपरेटिंग सिस्टम फिल्ड में बहुत अच्छा कर रहा है। 

एंड्राइड के अलग अलग वर्शन 

कहा जाता है की समय के साथ हमेसा बदलते रहना चाहिए और यही बात ऑपरेटिंग सिस्टम और सॉफ्टवर्स पर भी लागु होती है इसीलिए एंड्राइड हमेसा अपने सॉफ्टवेयर में कुछ न कुछ बदलाव करते रहता है इसीलिए वो हमेसा एंड्राइड के अलग अलग वर्शन  को लांच करता है अब तक एंड्राइड के कई सारे वर्शन  लांच हो चुके है जिसमे एंड्राइड के फीचर्स और बग्स में सुधार करके एंड्राइड को और भी अच्छा बनाया गया है। तो इसीलिए चलिए अब हम जानते है की अब तक एंड्राइड के कितने वर्शन  को लांच किया जा चूका है। 

अब तक एंड्राइड के 17 अलग अलग वर्शन  को लांच किया जा चूका है। जिसमे हमें कुछ न कुछ अच्छा फीचर्स को जोड़ने की कोसिस किया जाता है एंड्राइड हमेसा अलग अलग वर्शन को अलग अलग नाम से लांच करता है इसमें अंग्रेजी के अल्फाबेटिकल कैरेक्टर का इस्तेमाल किया जाता है जो की कुछ इस प्रकार है। 

  • Android 1.0 Alpha
  • Android 1.1 Beta
  • Android 1.5 Cupcake
  • Android 1.6 Donut
  • Android 2.1 Eclair
  • Android 2.3 Froyo
  • Android 3.2 Honycumb
  • Android 4.0 Ice Cream Sandwich 
  • Android 4.1 Jelly Bean 
  • Android 4.2 Jelly Bean 
  • Android 4.3 Jelly Bean 
  • Android 4.4 kitkat
  • Android 5.0 Lollipop
  • Android 5.1 Lollipop
  • Android 6.0 Marshmallow
  • Android 7.0 Nougat
  • Android 7.1 Nougat
  • Android 8.0 Oreo
  • Android 8.1 Oreo
  • Android 9.0 Pie
  • Android 10

Android के इस्तेमाल करने के फायदे 

अगर आप एंड्राइड का इस्तेमाल करते है तो यह आपको बहुत सारे फायदें भी देता है यह ऑपरेटिंग सिस्टम एक बहुत ही फ़ास्ट और सिक्योर सिस्टम है इसमें आपका डाटा पूरी तरह से सुरक्षित  तो चलिए पहले हम बात करते एंड्राइड के इस्तेमाल करने कुछ फायदो के बारे में। 

फीचर्स

एंड्राइड के फ़ोन्स स्मार्ट फ़ोन होते है यानि की इसमें आप wifi , कैमरा , टच स्क्रीन और फ़ास्ट होते है यही नहीं इसमें कई सारे ऐसे फीचर्स मिलते है जिससे आपके कई सारे काम आसान हो जाते है। इसमें आप swiping, tapping, pinching, और reverse pinching  जैसे फीचर्स मिलते है। 

एप्लीकेशन

 एंड्राइड में आप कई सारे अलग अलग अप्लीकेशन को डाउनलोड कर सकते है। गूगल के प्ले स्टोर में 5 लाख से भी ज्यादा एप्लीकेशन मौजूद है जिसमे से आप कोई भी एप्लीकेशन को डाउनलोड करके बहुत ही आसानी से इस्तेमाल कर सकते है। 

स्टोरेज 

आज के एंड्राइड मोबाइल में बहुत सारे स्टोरेज सिस्टम मिल जाते है जिसमे आप बहुत ही आसानी से बड़ी फाइल्स भी स्टोर करके रख सकते है। इसके लिए आपको कोई भी मेमोरी कार्ड लगाने की जरुरत नहीं होती है आप कोई भी फाइल्स को अपने मोबाइल स्टोरेज में भी सेव करके रख सकते है। 

क्या एंड्राइड IOS से बेहतर हैं ?

अब आपके मन में यह सवाल  होगा की अगर एंड्राइड में अगर इतने अच्छे फीचर्स मिलते है तो क्या यह Apple के IOS से बेहतर है। इसका जबाब हो सकता है की है भी और नहीं भी कुछ कुछ फैक्टर्स में एंड्राइड Apple Ios से बहुत अच्छा परफॉर्म कर रहा है तो चलिए अब हम जानते उन फैक्टर्स के बारे में। 

प्राइस

इसमें एंड्राइड काफी अच्छा परफॉर्म कर रहा है क्योकि यह यूजर को अच्छा से अच्छा फीचर्स बहुत ही कम पैसो में देती है। बहुत सारी अलग अलग कम्पनिया एंड्राइड के ऑपरेटिंग सिस्टम का इस्तेमाल कराती है। क्योकि एंड्राइड एक ओपन सोर्स प्रोग्राम है यानि की कोई भी कंपनी इस ऑपरेटिंग सिस्टम का इस्तेमाल कर सकती है। वही IOS के बने समर्टफोन काफी महंगे होते है और एप्पल के अलावा कोई भी कंपनी इसका इस्तेमाल नहीं कर सकती है। 

मल्टीटास्किंग फीचर्स 

एप्पल के मोबाइल फोन में आप कई सारे मल्टीटाकिंग काम कर सकते है यानि की आप एक ही विंडो में दो एप्लीकेशन का प्रयोग कर सकते है इसीलिए इस मामले में एप्पल का IOS काफी अच्छा काम कर रहा है लेकिन अब एंड्राइड भी इन सभी फीचर्स को ला रहा है अब सैमसंग भी एंड्राइड ऑपरेटिंग सिस्टम के द्वारा अपने कुछ मोबाइल फ़ोन में मल्टीटास्किंग का फीचर्स लेकर आया है। 

अभी के समय मार्किट में सिर्फ दो ऑपरेटिंग सिस्टम थी एंड्राइड और IOS लेकिन अब धीरे धीरे ही सही एल्कीन अब एक और ऑपरेटिंग सिस्टम मार्किट में आया है जिसका नाम है विंडोज।  अब विंडोज भी ऑपरेटिंग सिस्टम मार्किट में आया है हालाँकि अभी भी इसके फीचर्स एंड्राइड या IOS की तरह बेहतर नहीं है लेकिन फिर भी यह अच्छा काम कर रहा है। अब अगर हम इन 3 नो कंपनियों के पॉपुलैरिटी की बात करें तो पहला नंबर आता है Apple का दूसरा  Android का और तीसरा आता है Windows का। 

एंड्राइड के बारे में जानकारी

अभी के समय में एंड्राइड एक बहुत ही अच्छा ऑपरेटिंग सिस्टम है जो बहुत  काम कर रहा है। यह ऑपरेटिंग सिस्टम यूजर को एक सिक्योर और फ़ास्ट सिस्टम प्रोवाइड करता है और यह पूरी तरह से फ्री भी है जिससे कोई भी मोबाइल निर्माता कंपनी इस ऑपरेटिंग सिस्टम का इस्तेमाल कर सकती है। अभी के समय में भले ही एंड्राइड मार्किट में काफी ज्यादा पॉपुलर हो लेकिन आने वाले समय और भी कई सारे ऑपरेटिंग सिस्टम आएंगे जो काफी अच्छा परफॉर्म कर सकते है।

तो दोस्तों मुझे उम्मीद है आपको यह पोस्ट पसंद  होगा और आप एंड्राइड के बारे में समझ चुके होंगे आज के इस पोस्ट में हमने एंड्राइड क्या है , एंड्राइड को किसने बनाया और क्या एंड्राइड एप्पल से बेहतर है ? के बारे में जाना है आपको यह जानकारी किसी लगी आप हमें कमेंट करके बता सकते है वही अगर आपको यह पोस्ट इन्फोर्मटिवे लगी हो तो आप इस पोस्ट को अलग अलग सोशल मीडिया पर शेयर भी कर सकते है। ताकि यह जानकारी और भी लोगो तक पहुंच सके और लोग जान सके की एंड्राइड क्या है। हमारी  हमेसा से यही कोसिस रहती है की आपको इंटरनेट और टेक्नोलॉजी के बारे में अच्छी से अच्छी जानकारी सिंपल में दिया जाए।  

Leave a Comment